Thursday, 19 April 2018

रहते कहाँ हो ?


रहते कहाँ हो ?

अकसर ये सवाल मन को झकझोरता  है ।

रहते कहां हो ? - सवाल ही इस बात की ख़बर है कि   होना तो मंजूर है , पर रहने की जगह में संदेह है या कहें रहने का सही ठिकाना मालूम नहीं ।  बड़े-बुज़ुर्गों की कही बातें, मोटी-मोटी किताबों की तरह-तरह की बातें और इन सब के उलट-पुलट, टटोल-मटोल के बाद दिल-वो-दिमाग में उठने वाले बेहिसाब बवण्डर, बाप रे बाप !

            लोगों की देखा-देखी, सुनी-सुनायी युक्तियों के सहारे ढूढ़ने-जानने का कई बार प्रयास किया, किन्तु हर बार निराशा ही हाथ लगी । आख़िर क्यों ?

क्या मैंने गलत जगह में ढूढ़ा ? गलत तरीके से ढूढ़ा ? या कि कहने-बतलाने वाले ने ही गलत बतला दिया - कुछ कह नहीं सकता । हां, साथ में एक और सवाल भी उठा— बतलाने वाले ने क्या कभी देखा ? मिला ? कुछ बातचीत भी हुयी उससे ? या यूं ही वो भी सुनी-सुनायी बातें बक गया ?

 किन्तु इतने भाग-दौड़,खोज-बीन के बाद जो कुछ समझा-जाना, वो सिर्फ इतना ही कि उन सारे जगहों में वो बिलकुल नहीं है, अकसरहां जिसके बारे में लोग कहा करते हैं ।  
और इसी उधेड़बुन में हिचकोले खाता,शरीर और मन से थका-मादा,विस्तर पर औंधे मुंह गिर पड़ा । न जाने कब आँखें लग गयीं । 

आँखें लग जाने का सामान्य अर्थ होता है नींद के आगोश में समा जाना,किन्तु इसे पक्के तौर पर नींद भी कैसे कहूं ? सपना है - मानने को मन गवाही नहीं दे रहा । बहुत बार ऐसा होता है कि सपने और सच के बीच अन्तर करना बड़ा ही मुश्किल हो जाता है । जैसे कि वो पुरानी वाली किताबों में कुछ अनुभवियों ने लिखा है कि ये संसार ही सपना है...। जीता-जागता, दौड़ता-भागता ये इऽत्ताऽ बड़ा सा संसार जब सपना हो सकता है, फिर बाकी की बातें...!

मैंने देखा...नहीं, देखा कैसे ? देखने के लिए तो आँखों का खुला होना जरुरी होता है न ?  सुना । ऐसा लगा मुझे— हाथ पकड़ कर कोई मुझे उठा रहा है — उत्तिष्ठ !...जाग्रत !...वाले अन्दाज में—उठो,जागो,देखो...।

मेरे चारों ओर अज़ीब तरह की रौशनी थी । ऐसी रौशनी पहले कभी देखा नहीं था । रौशनी भी ऐसी हो सकती है - सोचा भी नहीं था । उस खास तरह की रौशनी के सिवा कहीं कुछ और न था या हो भी यदि तो मेरी आँखें देख न पा रही थी,किन्तु कान सुन पा रहे थे ।

मैं सुन रहा था—
‘‘ देखो,ये सब इमारतें देख रहे हो न ! ये गोल गुम्बद वाली...ये मेहराब़ वाली...और ये शंकू वाली...और ये वाली और ये वाली भी...चारो ओर शोर है—कोई कहता है - ये वाला मेरा घर है...कोई कहता है वो वाला मेरा घर है...कोई कहता है वो वाला मेरा घर है...। ये वाला सबसे बढ़िया है...ये वाला सबका सिरताज है...इमारतों की श़क्लें ज़ुदा-ज़ुदा हैं, परन्तु सभी बने हुए हैं एक सी ही ईंट-गारों से । बनाने वाले हाथ भी एक जैसे ही हैं- पांच उँगलियों वाले । बस, फ़र्क इतना ही है कि बनने के साथ ही उनका अलग-अलग नाम हो गया है । और जानते हो— असल झमेला इन सारे नामों से ही है । तुम्हारे जनमने के पहले तुम्हारा कोई नाम था क्या ? तुम्हारा कोई घर था क्या ? जहां जनमे वही घर हो गया न । जिस नाम से पुकार लिए गए - वस वहीं भर होकर रह गए तुम । रत्ती भर भी इधर-उधर नहीं हो पाये । इन नामों ने जकड़ लिया तुम्हें । इन बेतुके नामों की खूँटियों पर टंग गए तुम । इन चारदीवारों ने कैद कर लिया तुम्हें । और इस कैदखाने को ही घर समझ लिया तूनेमेरा घर...अपना घर । दरअसल, इन सारी इमारतों में  न कोई तुम्हारा घर है और न मेरा ही । इन चारदीवारों में न कोई तुम्हें कैद कर सकता है और न मुझे ही । ये बिलकुल तय मान लो कि इन इमारतों में मैं रहा ही नहीं कभी । क्यों कि यहां बहुत शोर-श़राबा है । बहुत झगड़े-फस़ाद हैं । यूं कहो कि दुनिया के सारे फ़सादों की जड़ ये इमारतें ही हैं और साथ ही है वो तुम्हारा वाला नाम जिसे तुम्हारे अपने कहे जाने वाले लोगों ने दे दिया था, ज़बरन थोप दिया था — अपने निजी स्वार्थ में । और तुम भी फंस गए उनकी जाल में । तुमने कभी कोशिश भी नहीं की ये जानने की  कि मैं कौन हूँ ? तुम पक्के तौर पर जान लो कि तुम वही हो जो मैं हूँ ।  मैं, तुम और वो का झमेला खत्म करो । और सबसे बड़ी बात यह कि मुझे ढूढ़ने की कवाय़द बिलकुल फ़िजूल है । मेरा कोई घर नहीं । मेरा कोई अता-पता ठिकाना नहीं । कहां ढूढ़ोगे ? किसी की मत सुनो । ये सबके सब तुम्हें अपने-अपने मक़सद के लिए बरगलाया है सिर्फ । तुम जहां हो, जैसे हो, जिस हाल में हो बस थिर हो जाओ । बहुत भाग-दौड़ कर लिए रेगिस्तानी चश़्मे की तलाश़ में । अब चुप बैठ जाओ । मैं यहीं रहता हूँ...बिलकुल तुम्हारे पास ही...तुम्हारे ही भीतर...तुम्हारी ही सांसों की डोर से बंधा हुआ सा।
                                              ---)(---

No comments:

Post a Comment