Friday, 27 May 2016

अपराध वोध

एक वोध कथा- जिसकी घटना पिछले सात महीनों से मन को मथित किये हुए था,अब और टालना सम्भव न लगा,अतः कन्फेशन के लिए रख ही दे रहा हूँ- आपके सामने...पता नहीं आपको कैसा लगे!


                                            अपराध-वोध
स्वयं को वह वैष्णव ही नहीं परम वैष्णव समझता है। वैष्णव दिखने के जो भी बाह्य लक्षण हैं, सब कुछ लगभग ओढ़-सा लिया है- गोक्षुरु शिखा,गोपी-तिलक,तुलसी-माला-कंठी,ऊपर से रामनामी उत्तरेय भी...। विष्णुसहस्रनाम और गीता तो बिलकुल कंठस्थ है, श्रीमद्भागवत के शताधिक श्लोक भी। बिलकुल ब्राह्ममुहूर्त में तो नहीं, किन्तु सूर्योदय से थोड़ा पहले नियमित विस्तर त्याग, नित्यकर्म में लग जाना,सन्ध्या-वन्दन,सस्वर पाठ...और भी बहुत कुछ। शालग्राम-चरणामृत प्राशन के वगैर तो उसकी दिनचर्या ही अधूरी सी है- अकाल मृत्यु हरणं,सर्व व्याधि विनाशनं। विष्णुपादोदकं पीत्वा पुनर्जन्म न विद्यते... पुनर्जन्म के भय से या कि निष्ठा से – यह तो वही जाने। प्रकृति प्रेम भी किंचित झलकता है उसमें ,क्यों कि एक छोटी सी वाटिका भी लगा रखी है उसने, जिसमें सिर्फ पुष्प ही नहीं लता,गुल्म और पादप भी हैं। अर्क,अपामार्ग,कुशा,दूर्वा के साथ-साथ अश्वत्थ,उदुम्बर,खदिर और शमी जैसे कुछ वृक्ष भी कैद हैं वहां- यानी नवग्रह प्रेम या कि अज्ञातभय ! जो भी हो, सभी समिधायें उपलब्ध हैं उस वाटिका में । छोटे से घर का बड़ा सा प्रांगण इन्हीं सब से पटा पड़ा है। उन्हीं में वृन्दावन भी है। हां,वृन्दावन यानी तुलसी की वाटिका। वाटिका पूरी तौर पर सुरक्षित-संरक्षित है। परिंदे को भी पर मारने में सोचने की जरुरत है।
मगर अफसोस,वह बहुत ही चिन्तित है,थोड़ा दुःखी भी। लगता है कलयुग का पूरा बोलबाला हो गया है- कलेः पञ्चसहस्रे च गते वर्षे च मोक्षणम्....विष्णु की प्रतिज्ञानुसार शापित तुलसी धराधाम को शायद त्याग चुकी हैं,तभी तो महाकीटनाशक तुलसी पर क्षुद्र कीटों का प्रभाव पड़ रहा है। श्वेततुलसी तो सब के सब कीटग्रस्त हो ही चुके हैं। ऐसा कई सालों से होता आ रहा है- काले-काले छोटे कीड़े पत्तियों पर हमला बोल देते हैं,और थोड़े ही दिनों में पूरा पौधा उनके गिरफ्त में आकर सूख-मुरझा जाता है। इसीलिए इस बार उसने कहीं से खोज-ढूंढ़ कर श्याम तुलसी ही लगाये हैं । किन्तु इधर महीनों से उसके श्याम तुलसी पर भी  विपत्ति आ पड़ी है- न जाने क्यों कर पत्तियां ही अलक्षित हो जा रही हैं। पौधा ज्यों का त्यों है। पत्तियों का अलोपन-रहस्य उसके समझ से परे है। सुकोमल वृंत पर पत्तियां ज्यों ही झांकतीं,अगले दिन ही गायब। पहले तो उसे शक हुआ घर के बच्चों पर ही,क्यों कि बाहर के बच्चों को तो इज़ाजत ही नहीं थी वाटिका तक जाने की। अतः बच्चों को ही डांट पड़ती- कभी छोटकू को,तो कभी बड़कू को भी। किन्तु बच्चा तो बेचारा बच्चा ही होता है न ! प्रायः अनकिये  की भी सजा भुगत लेता है,सुधनी गाय की तरह,और बहुत बार तो बड़ों की भूलों का भी शिकार होना पड़ जाता है।
एक दिन छुटनी को मेला घुमाने का प्रलोभन दिया कि वह निगरानी करे,कि कब बड़कु या कि छोटकी यह दुःसाहस कर गुजारता है,और कानों कान खबर भी नहीं होती। और तब जाकर एक दिन रहस्योद्घाटन हुआ तुलसी-पत्र-अलोपन का। छुटनी ने स्वयं अपनी आँखों से देखा और दोनों भाइयों को भी गवाही में शामिल किया,ताकि मेला घुमने का काम तीनों का एक साथ होसके। साक्ष्य को और भी पुष्ट करने हेतु मां का भी सहयोग लिया गया।
उसने ही साहस करके कहा- आप व्यर्थ ही इतने दिनों से बच्चों को डांटते-पीटते रहे हैं,असली मुज़रिम तो वो राक्षस-सा जन्तु है,जो आपके प्रिय वृन्दावन को नष्ट करने पर तुला है। और तब एक दोपहरी में छिप कर उसने स्वयं भी निरीक्षण किया,सबसे आँख बचाकर; क्यों कि उसे विश्वास ही न हो रहा था,कि कोई विचित्र प्राणी तुलसी-पत्तों को खा रहा है।
उसने देखा, गिरगिट की तरह ,किन्तु विशालकाय जन्तु आसपास के पौधों पर रेंग रहा है, पास के खोढ़र से निकल कर,और धीरे-धीरे तुलसी की ओर बढ़ रहा है। निरीक्षण करते हुए वह,और भी दुबक गया,थोड़ा सरक भी आया पौधे के समीप, खदिर की आड़में। गिरगिट सा वह जन्तु आहिस्ते से उछला,और सीधे तुलसी पर कूद पड़ा,जिसमें डालियां तो कई थी,पर पत्तों का अभाव था। एक-दो कोंपलें अभी झांक ही रही थी,अकुला रही थी- वृंत से बाहर आने को कि उसने चट अपनी जीभ लगा दी उन कोंपलों पर। एक-दो-तीन करके क्षण भर में ही सभी कोंपले काल-जन्तु का ग्रास बन गयी। वह आग-बबूला हो उठा- क्रोधाद्भवति सम्मोहः सम्मोहात्स्मृतिविभ्रमः। स्मृतिभ्रंसाद् बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति।। क्रोध सम्मोहित कर देता है,सम्मोहन स्मृति-विभ्रम पैदा करता है। स्मृति-विभ्रम से बुद्धि नष्ट हो जाती है,और बुद्धि नष्ट होने पर तो सब कुछ प्रनष्ट होगा ही न!
उसके साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। क्रोधावेग में सब कुछ समा गया। विकट जन्तु को दण्डित करने हेतु कोई और दण्ड न ग्रहण कर,सीधे पैर से निकाला अपना खड़ाऊँ,और घातक प्रहार कर दिया। ये भी न सोच सका कि पादुका-प्रहार पवित्र तुलसी पादप पर करने जा रहा है। मोटे खड़ाऊं की तीक्ष्ण प्रहार से घायल जन्तु दूर जा गिरा,लगभग बेहोश सा होकर। प्रहार के पश्चात,क्रोध का ज्वार भी भाटा बन चुका था। उसने देखा- दूर गिरे जन्तु की अजीब सी आँखें उसे ही घूर रही हैं, जिनसे प्रतिकार की चिंगारियां बरस सी रही हैं।
बात आयी-गयी होजाती। ऐसी घटनायें तो प्रायः रोज ही होती हैं,सबके साथ होती हैं। किसे इतना फुरसत है सोचने-विचारने की ऐसी-वैसी बातें !
कार्तिक शुक्ल पक्ष की चौदवीं तिथि। लगभग भोर का समय। यूं तो वह कार्तिक-स्नान का पुण्यलाभ नियमित नहीं कर पाता था,किन्तु कुछ खास तिथियों का ध्यान अवश्य रखता था। कल पूर्णिमा है। ब्रह्ममुहूर्त का स्नान करना है। इसके लिए नित्य की अपेक्षा कुछ पहले विस्तर त्यागना होगा- उसे ध्यान में था। किन्तु हठात नींद खुली, इस पुण्य-ध्यान के कारण नहीं,प्रत्युत एक विचित्र स्वप्न के कारण,जिसे स्वप्न कहा जाय या कि साक्षात- वह निर्णय न ले पा रहा था। और जब इतनी साधारण सी बात अनिर्णित हो जाय,फिर ब्रह्मसत्यं जगन्मिथ्या का रहस्य-वोध कैसे हो! वह तो दुर्बोध है ही।
उसने देखा- विस्तर के पास कोई खड़ा है,श्वेत...धवल...लगभग मानवाकार,पर मानव है नहीं, स्वर मानवी है सिर्फ-  गीता तो बहुत रट लिए हो तोते की तरह,परन्तु विद्याविनयसंपन्ने ब्राह्मणे गवि हस्तिनि। शुनि चैव श्वपाके च पण्डिताः समदर्शिनः को समझने में बहुत देर है अभी । पंडित कुल में जन्म लेना और पंडित होने में बहुत अन्तर है।’ –– उसके ये शब्द तीर की तरह चुभ गये, झकझोर गये दिलोदिमाग को। विचारने को विवश हो गया...।
थोड़ा विचार करने पर लगा कि सच में केवल ब्राह्मण-पुत्र हूं- ब्राह्मण होने के अहंकार से मत्त। विद्याविनय सम्पन्न कदापि नहीं । सृष्टि के कण-कण में एक ही परमात्मतत्त्व का दर्शन बहुत दूर की बात है। एकोहंवहुस्यामः तो और भी अबूझ।
आकृति के स्वर अभी भी उसके कर्णगुहा में प्रविष्ट हो रहे थे- ... तुम्हारे अधैर्यपूर्ण अज्ञानता ने मुझे एक और शरीर लेने को विवश कर दिया...वृन्दावन वास और तुलसी-पत्र-प्राशन से मेरे पूर्व जन्मार्जित कृत्यों का क्षय होरहा था। वस थोड़ा ही शेष रह गया था, मेरे अनुष्ठान के पूरे होने में। खैर,सम्भवतः यही होना था। प्रभु का विधान तो सदा मंगलमय ही हुआ करता है,भले ही अमंगल-सा क्यों न प्रतीत हो। तुम्हारे पादुका-प्रहार ने चोटिल कर,इस नश्वर काय-व्यूह को त्यागने हेतु विवश कर दिया। अब किसी नूतन काय की व्यवस्था करनी होगी। मेरा वह जर्जर मृत काय वहीं तुम्हारी वाटिका में पड़ा है। उसे पवित्र सोणभद्र की धारा में प्रवाहित कर देना,चूकना नहीं।
उक्त स्वर के साथ ही आँखें खुल गयी । दृश्य अदृश्य हो चुका था। हड़बड़ा कर उठा। मुंह अन्धेरे ही वाटिका में गया। तुलसी-पादप-तल में ही प्राणी की मृतकाया पड़ी थी। आसपास कुछ चीटियां चक्कर लगा रही थी,मानों सुरक्षा घेरा बांध रही हों- वीरगति प्राप्त संसार-सेनानी के शव की।
भागकर भीतर आया। नूतन पीतवस्त्र का एक टुकड़ा उठा लाया। समादर पूर्वक उठाया उस पार्थिव शरीर को,और रामनामसत्य का गुंजन करते हुये नदीतट की ओर चल पड़ा। सद्गति मन्त्रोच्चारण पूर्वक जलसमाधि देने के साथ ही कुछ दिव्य स्वर पुनः कानों में पड़े....मन्मना भव मद्भक्तो मद्याजी मां नमस्कुरु। मामेवैष्यसि सत्यं ते प्रतिजाने प्रियोसि में।। यही परम भागवतधर्म है, शेष तो सब तैयारियां है,या कि आडम्बर...दिखावा..अहं-पोषण। अस्तु।

                                                ---()---

Wednesday, 25 May 2016

खतरे की घंटी

                                      
खतरे की घंटी
हमारे चारो ओर खतरे की घंटियां निरन्तर बज रही हैं,और हम बेखबर है। हम जिन्दा हैं,स्वस्थ हैं - ये ही आश्चर्य का विषय है,न कि बीमार हैं,मर रहे हैं...क्यों कि मरने का सामान हमारे पास अधिक इकट्ठा हो गया है,जीने के साधन की तुलना में। खाद्य –पदार्थ से लेकर वायु और जल तक दूषित ही नहीं अतिशय प्रदूषित हो चुका है,या कहें हमने कर लिया है। और सबकुछ दूषित हो चुका है,तो फिर विचार तो दूषित होना ही है न !
परन्तु  कमाल की बात तो ये है कि इसे ही हमने विकास मान लिया है। कृत्रिमता के गिरफ्त में हम इस कदर जकड़ते जा रहे हैं कि मूल ही निर्मूल होता जा रहा है। रुप,रस,गन्ध सब कुछ बनावटी हो गया है। हम खुश हैं कि हमने कृत्रिम लहु भी बना लिया है, कृत्रिम हृदय भी...किन्तु दुःख की बात है कि हमारे रिश्ते-नाते,सम्बन्ध भी कृत्रिम ही हो चले हैं। नौ महीने गर्भ के पले बच्चे और टेस्टट्यूब बेबी में आंखिर बिलकुल साम्य कहां से पा सकते हैं ! औरस और दत्तक एक कैसे हो सकता है !
निरापद जीवनयापन के लिए कभी विचार करना भी चाहते हैं कि क्या करें,क्या खायें-पीयें,कैसे रहें,कहां रहें....तो थक-हार कर जो सामने दीखता है,उसे ही अंगीकार करने को विवश होजाते हैं। काम और कामनाओं से जकड़े मनुष्य की आबादी भेड़-बकरियों सी बढ़ने लगी,तो हमने विविध निरोधों का सहारा लिया,किन्तु निरोधशब्द की व्युतपत्ति और मूलार्थ को ही विसार कर। हम अवरोध को ही निरोध मान बैठे। योगश्चित्तवृत्तिनिरोधः में चित्तवृत्तियों का शमन-दमन नहीं है,अवरोध तो बिलकुल ही नहीं है।
खैर,हम यहां विचार कर रहे थे निरापद जीवन यापन की,जो दिनोदिन दुर्लभ होता जा रहा है। जनसंख्या नियंत्रण के सारे हथकंडे अपना लेने के बावजूद सन्तोष नहीं हुआ ,तो संसाधनों का ही खींचतान करने लगे। जनसंख्या तो बढ़ती रही,पर जमीन को खींच कर बढ़ाना कैसे होता,अतः कृषिभूमि को बढ़ाने में असमर्थता के कारण पैदावार को ही बढ़ाने में जुट गये,ताकि गुणन गति से बढ़ती जनसंख्या की उदर पूर्ति की जासके। प्राकृतिक खाद को विसार कर,कृत्रिम खाद का धुंआधार प्रयोग करने लगे। यूरिया,फॉसफेट और पोटाश के साथ-साथ विविध कीटनाशकों (जानलेवा विष)का प्रचुर प्रयोग इस कदर बढ़ा कि पांच साल के बच्चे को भी यूरिक एसिड की समस्या झेलनी पड़ रही है। आंखिर इस जहर से हम बच भी कैसे सकते हैं? खाद्यान्न से लेकर फल-सब्जियों तक को भयंकर रसायनिक गिरफ्त में धकेल दिया गया है- कुछ विकास के नाम पर,कुछ संरक्षण के नाम पर। फल-सब्जियों तक को इन्जेक्शन लगाया जा रहा है। मांग और पूर्ति के अर्थशास्त्रीय महासूत्र की सार्थकता सिद्ध करने हेतु हम अनर्थ पर अनर्थ किये जा रहे हैं। पूंजीवादी विकास धारा ने इस कदर अंधा बना दिया है कि परिणामवाद पर विचार करने का जरुरत ही नहीं समझते। जैसे भी हो जितना जल्दी हो सके अधिक से अधिक पैसे पैदा कर लेना है। चार दिनों बाद तैयार होने वाले कद्दू को एक रात में ही पिट्यूसीन देकर तैयार कर लेते हैं। एक किलो दूध देने वाली गाय को पिट्यूसीन देकर चार किलो दूध उतार लेते हैं। बछड़े को तो हम पहले ही मार देते हैं,ताकि उसके हिस्से का दूध भी हम पी सकें,और जो अपने गर्भ के बच्चे की चिन्ता नहीं करता वो भला गाय के बच्चे की क्या चिन्ता करेगा!
खाद्य-संरक्षण का एक दूसरा पहलु है ,जो आलस्य और आरामतलबी के गर्भ से पैदा हुआ है। रोटी सेंकने में कठिनाई होती है,अतः ब्रेड खाना पसन्द करते हैं,और ये जानना जरुरी भी नहीं समझते कि इसके निर्माण में पोटैशियम ब्रोमेट,पोटैशियम आयोडेट जैसे घातक रसायन का प्रचुर प्रयोग किया गया है,जो कैंसर का महाजनक है,थायरॉयड का परम सहयोगी भी। ऐसे घातक रसायनों का प्रयोग पिज्जा,वर्गर,बन,विस्कुट, आदि लगभग सभी संरक्षित खाद्य पदार्थों में धड़ल्ले से किया जाता है मानक क्षमता की धज्जियां उड़ाकर । नूडल हंगामा अभी हाल का उदाहरण है। शीतल पेय पदार्थों की तो बात ही न करें,वो तो पहले से ही महान हैं- मानवजीवन से खिड़वाड़ करने में,और उनका सहारा है सोडियम बेन्जोयेट,और पता नहीं क्या क्या। विश्वप्रसिद्ध जॉनसन प्रोडक्ट जिसे हम अपने नवजात भविष्य का रक्षक मानकर इठलाते हैं,उनकी कहानी भी हम सुन चुके हैं,जिन पर  हजारों की संख्या में शिकायतें दर्ज हैं,और उनके ही देश की सरकार ने अरबों रुपये का जुर्माना भी लगाया है। क्या ये भी महज राजनैतिक खेल है,जैसा कि हमारे यहां आमतौर पर होता है। बेचारे नेता जी तो अपराध करते ही नहीं हैं,वे तो विरोधी दल के साजिश का शिकार सिर्फ होते हैं।
कोई दुर्घटना होती है,हो हंगामा होता है,तो जनता को फुसलाने के लिए तत्काल जांच कमेटी बैठा दी जाती है,और फिर जांच तो जांच ही है न। नियमानुसार ये जांच पहले ही किया जाता रहा होता तो ये नौबत ही क्यों आती? गौरतलब है कि जिस रसायन को सन्1992 में ही विभिन्न देशों में बैन कर दिया गया,इन्टरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर ने जिसे 1999 में ही घातक सिद्ध कर दिया था, सेन्टर फॉर सायन्स एंड एनवायर्मेन्ट ने भी लाल कलम लगाये जिनपर ,उसे भी हम आज ढोये जा रहे बेरहमी और बेशर्मी पूर्वक।
अभी हाल में ही सुनने-जानने को मिला कि 80% डॉक्टर  बेशर्मी पूर्वक सिर्फ कमीशन के लोभ में बड़े-बड़े जांच लिखते हैं,और उन दवाओं को खाने का भी सुझाव देते हैं,जिन्हें कठोरता पूर्वक अवैध और घातक घोषित कर दिया गया है। कमाल की बात तो ये है कि जिस जांच-रिपोर्ट पर आँखमूंद कर हमारे तथाकथित भगवान भरोसा कर लेते हैं,उस जांच को करने वाला एक्सपर्ट भी कोई ननमैट्रिक या अर्डरग्रैजुयेट भटकता बेरोजगार ही होता है,जो चन्द रुप्पलों के लिए लैब में काम कर रहा होता है। अब भला आम आदमी उन 20%सही डॉक्टर का चुनाव(जांच) किस लेबोरेट्री से कराये,जो पूर्ण रुप से डॉक्टर यानी मानव-जीवन-रक्षक हो?
हमारी सजगता,संयम और सावधानी ही हमारा एकमात्र रक्षक हो सकता है- मुझे तो ऐसा ही लगता है। शायद आपको भी !

२४/०५/१६ २०:००